गरीब आदमी पार्टी का मुख्य मुद्दा समानता के अधिकार के लिए लड़ाई लड़ना है , जीवन के हर क्षेत्र में पूरे देश में नागरिकों को मिलने वाली सुविधाओं में समानता , अमीर-गरीब के बच्चों के हक़ में समानता , पूरे देश की सड़कों ,नाली,सीवर,पानी,बिजली,स्वास्थ्य आदि क्षेत्रों में समानता
 
 

पिछले पंद्रह सालो के अर्थशास्त्रियों के आंकड़े इस बात के गवाह हैं कि हमारे देश में गरीब आदमी और गरीब होता गया है तथा अमीर और ज्यादा अमीर होता  जा रहा है, इसका मुख्य कारण हमारे देश में फैली प्रशासनिक कुव्यवस्था है आये दिन भ्रष्टाचारघोटालो के कारण अर्थव्यवस्था चरमरा जाती है और उसको सुधारने के लिए महंगाई बढाई जाती है और गरीब आदमी जो पहले से ही मंहगाई से त्रस्त  है वो और त्रस्त हो जाता है,

गरीब आदमी की दुदर्शा पर ध्यान देने के लिए हमारे देश के किसी राजनेता के पास समय नहीं है उन्हें तो बस अपनी तिजोरी भरने से मतलब है,गरीबी हटाने की बात तो सभी करते है मगर इस दिशा में काम कोई नहीं करना चाहता क्योकि वे जानते है की समाज का यह दबा कुचला हिस्सा संगठित नहीं है

और संगठित हो भी नहीं सकता क्योकि ये लोग अपनी रोजी रोटी के फेर में उलझे रहेगे और इन भ्रष्टाचारियो को सहते रहेगें,

क्रांति,आन्दोलन, धरना प्रदर्शन , सत्याग्रह ये सारे शब्द देश के राजनीती में अब केवल सत्ता पाने के लिए और गरीब आदमी को ठगने के लिए प्रयोग हो रहे हैं यह बात हमने पिछले बिधानसभा के चुनावो में प्रत्यक्ष देख भी लिया

“गरीब आदमी पार्टी “ आप सभी देशवासियों से आह्वान करती है की अब भी भी समय है,संगठित हो कर इन चालाक और भ्रष्ट राजनेताओ को संगठन की शक्ति का अहसास करवाओ वरना ये भ्रष्टाचारी धीरे-धीरे हमारे देश को दीमक की तरह चाट जायेगें,और हमारी अर्थव्यवस्था रसातल में पहुँच जाएगी

A/C गाडियों में घूमने वाले, बड़े बंगलो में रहने वाले,हमारे नेता भला गरीबी में गुजर बसर करने वाले देश के नागरिको की हालत कैसे समझ सकेगें महंगाई के बोझ तले तो गरीब आदमी को दबना है एक गरीब मजदूर किस प्रकार अपना और अपने परिवार का पेट पालता है ये वही जनता है

किसान हमारा अन्नदाता जिसकी हालत बद से बदतर हो चुकी है कितने ही किसानो को गरीबी से तंग आकर आत्महत्या तक करनी पड़ी,

पैंसठ सालों की आजादी के इतिहास पर गौर करें तो हमें घोटालों और भ्रस्टाचारो के हजारो उदाहरण मिलेंगे,क्या हम इन सब को यु ही सहन करते रहेगें?

दोस्तों “गरीब आदमी पार्टी “ एक मजबूत संगठन के रूप में आपके सामने है,इस राजनितिक पार्टी रुपी संगठन से अधिक से अधिक संख्या में जुड़कर अपने आपको शक्तिशाली व मजबूत करें,ताकि आगामी लोकसभा चुनाव में हम भ्रष्टाचारी नेताओ को उनकी मंशा में कामयाब न होने दें.

     अब आप मजबूर नहीं संगठित होकर मजबूत हो जाओ गरीब आदमी पार्टी आपकी अपनी पार्टी है

        “संगठन की शक्ति ने इतिहास बदला है हमें तो बस अपने देश के कुव्यवस्था को बदलना है”

           इस राजनीतिक पार्टी रुपी संगठन से जुड़कर इसे और खुद को शक्तिशाली बनाईऐ

“            जय भारत”                                            “जय हिन्द”